Press Releases

Print

Press Note

Publish Date: 04-02-2011

भारतीय शास्त्रीय संगीत तथा नृत्य जैसी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को युवाओं के माध्यम से संरक्षित व सवंर्धित किया जाना नितांत आवश्यक है।

Source : Rajbhawan-Uttarakhand, Last Updated on 07-05-2021